योगी सरकार ने जारी किया नया फरमान , 15 अगस्त को यूपी के सभी मदरसों में होगा राष्ट्रगान और कराएं वीडियोग्राफी

410

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य में स्थित सभी मदरसों में आगामी स्वतंत्रता दिवस पर तिरंगा फहराकर राष्ट्रगान गाने और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन करने के निर्देश दिये हैं. राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने आज यहां बताया कि देश के तमाम नागरिक होली, दीपावली, ईद और लोहड़ी के त्यौहार मनाते हैं. वहीं, स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस को पूरा देश मनाता है. मदरसों को इससे अलग नहीं किया जाना चाहिये. वहीं, अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा है प्रधानमंत्री देश में हिंदुत्व का प्रचार करना चाहते हैं और धर्मनिरपेक्षता का देश में अंत करना चाहते हैं. इस्लामी शिक्षण संस्था दारूल उलूम फरंग महल के प्रमुख और आल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने इस संबंध में दिये गये वीडियोग्राफी के आदेश पर सवाल उठाते हुए कहा कि इसे मदरसों की देशभक्ति पर सवाल के तौर पर देखा जाना चाहिए.. बताया जा रहा है कि इस प्रकार के आदेश मदरसों को लगातार समय समय पर जारी किए जाते रहते हैं. उत्तर प्रदेश में मदरसा शिक्षा परिषद की ओर से प्रदेश के सभी मदरसों को पत्र जारी कर स्वतंत्रता दिवस हर्षोउल्लास से मनाने के निर्देश दिए गए हैं. कहा गया है कि 15 अगस्त को मदरसों में तिरंगा फहराया जाए, राष्ट्रगान भी गाया जाए. यह पत्र 3 जुलाई को उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद की ओर से जारी किया गया है. इसे सभी जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों को भेजा गया है. पत्र में लिखा है कि प्रदेश के सभी मदरासों में स्वतंत्रता दिवस को हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाए. पत्र में आगे कहा गया है कि 15 अगस्त को सुबह 8 बजे झंडा रोहण और राष्ट्रगान का समय रखा गया है. इसके बाद 8.10 पर स्वतंत्रता संग्राम के शहीदों को श्रद्धांजलि देने की बात कही गई है इसके अलावा यह भी सलाह दी गई है कि कार्यक्रम में स्वतंत्रता दिवस के महत्व पर प्रकाश डाला जाए, मदरसों के छात्रों द्वारा राष्ट्रीय गीत प्रस्तुत किया जाए, स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों और शहीदों के बारे में छात्रों को जानकारी दी जाए, राष्ट्रीय एकता पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया जाए पत्र में सभी मदरसा संचालकों को कार्यक्रम के वीडियो और फोटोग्राफी कराने के भी निर्देश दिए गए हैं. इसकी वजह ये बताई गई है कि इस कार्यक्रम के फोटोग्राफ और वीडियो से आने वाले समय में भी ऐसे ही कार्यक्रम कराए जा सकेंगे.
यह पत्र उत्तर प्रदेश मदरसा परिषद के रजिस्ट्रार राहुल गुप्ता की ओर से जारी किया गया है. पत्र जारी करने वाले गुप्ता ने बताया, “यह आदेश सही है. इस तरह का लेटर पहली बार जारी नहीं किया गया है. समय-समय पर इसे जारी किया जाता है. मैं मदरसा शिक्षा परिषद का रजिस्ट्रार हूं तो लेटर जारी करना मेरी जिम्मेदारी है. इसे राजनीति से जोड़कर देखना सही नहीं है.”