वायु सेना ने फिर किया चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी का निरीक्षण

203

उत्तरकाशी, [जेएनएन]: उत्तरकाशी जिले में सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी का बरेली से आए वायु सेना और उड्डयन विभाग के अधिकारियों की टीम ने संयुक्त निरीक्षण किया। टीम ने कार्यदायी संस्था को निर्देश दिए कि अक्टूबर से पहले हवाई पट्टी का निर्माण पूरा कर लिया जाए। ताकि वायु सेना यहां रिहर्सल कर सके। इससे पहले गत 22 अगस्त को भी वायु सेना की टीम ने भी हवाई पट्टी का निरीक्षण किया था।

उत्तरकाशी जिले की नेलांग घाटी में भारत-चीन बॉर्डर पड़ता है। यहां सीमा पर आइटीबीपी व सेना के जवान तैनात हैं। डोकलाम में भारत-चीन के बीच हुई तनातनी के बाद सेना के साथ वायु सेना ने भी यहां सक्रियता बढ़ाई है। ताकि वायु सेना व सेना को किसी अभियान चलाने में परेशानी न हो। इसी कड़ी में चिन्यालीसौड़ में 1165 मीटर लंबी व 30 मीटर चौड़ी हवाई पट्टी का निर्माण चल रहा है। यह हवाई पट्टी सामरिक दृष्टि से ही नहीं, आपदा की दृष्टि भी संवेदनशील जिले में राहत पहुंचाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। हवाई पट्टी का कार्य 95 फीसद पूरा हो गया है। बस, एटीसी टावर, टर्मिनल, रनवे के बाहर दोनों ओर समतलीकरण व अन्य कार्य होने बाकी हैं।

हवाई पट्टी के निरीक्षण के लिए बुधवार को बरेली से वायु सेना और उड्डयन विभाग के अधिकारियों की सात सदस्यीय टीम यहां पहुंची। निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने कहा कि अधूरे पड़े निर्माण कार्य अक्टूबर से पहले पूरे करने के निर्देश दिए। प्रोजेक्ट मैनेजर घनश्याम सिंह ने बताया कि जो कार्य अधूरे हैं, उनकी डीपीआर उड्डयन विभाग को सौंप दी गई है।