तंज़ीला चैरिटेबल एंड एजुकेश्नल रिसर्च ट्रस्ट ने मनाया अश्फक़्ल्लाह खान जयंती समारोह!

190

जामिया नगर में महान क्रांतिकारी स्वतंत्रा संग्राम सेनानी अशफाक उल्ला खां की जयंती समारोह धूमधाम के साथ मनाया। जिस पर सभी ने उनके चित्र पर पुष्प अर्पित किये। साथ ही उनके द्वारा किए गए देश हित में कार्यों को याद किया। तंजीला चैरिटेबल एणड एजुकेशनल रिसर्च ट्रस्ट  जमिया नगर के शाहीन बाग़  में महान क्रांतिकारी स्वतंत्रा संग्राम सेनानी अशफाक उल्ला खां की जयंती समारोह धूमधाम के साथ मनाई। जिसमें जमिया हम्दर्द यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डॉक्टर खुरशीद अंसारी ने कहा कि अशफाक उल्ला खां का जन्म 22 अक्टूवर 1900 को शाहजहांपुर में हुआ था। वह तैराकी,घुड़सवारी,क्रिकेट,हॉकी खेलने के साथ साथ बंदूक चलाने में प्रवीण थे। उनकी पं रामप्रसाद विस्मिला से दोस्ती हो गयी। उसके बाद उनके साथ क्रान्तकारी गतिविधियों में शमिल हो गये। काकोरी में सरकारी खजाना लूटने पर अंग्रेज सरकार ने 18 माह मुकदमा चलाते हुए छोटे से दोष के लिए उनके व उनके साथियों को क्रुरतम फांसी की सजा सुनाई। इस सरकारी खजाना लूटने में अशफाक उल्ला खां,रामप्रसाद,राजेन्द्र लहरी,ठाकुर रोशन सिंह को फांसी दी गई। प सुरेश चन्द्र शर्मा ने भी अशफाक उल्ला खां द्वारा किये गये देश हित में कार्य को याद करके उनके बताये गये रास्तो पर चलने का आहवान किया। डॉक्टर अय्यूब खान ने कहा की देश के युवा पीढी को सन्विधान बचाने की ज़िम्मेदारी है उंको ये ज़िम्मेदारी निभाना ही होगा   ! वही राहिला परवीन ने कहा की सरकार  को शहीद अस्फक़्ल्लाह खान जयंति समारोह का आयोजन करनी चाहिये जो न्ही करती है अंत मे तंज़ीला चैरिटेबल एंड एजुकेश्नल रिसर्च ट्रस्ट के अध्यक्ष उबैदुल्लाह ने सभी मेहमानों का शुक्रिया अदा किया एवं युवा मित्रों से अपील किया की कम से कम 3 गैर मुस्लिम दोस्त बनायें ताकि समाज को मुसलमानों की सही छवि किया है बता सकें!इस अवसर पर इमरान मशकूर,भाई अनीस खान स्मजिक कार्यकर्ता ,शफिउर्राह्मन ,शहजाद आलम ,इक़बाल खान एवं इलाक़े के सभी ज़िम्मेदार व्यक्ति मौजूद थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉक्टर अय्यूब अली खान एवं  संचालन  मौलाना शफीक़  ने किया|