PNB घोटाला: CBI ने नीरव मोदी के भाई नीशाल के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया शुरू की

13

नई दिल्ली: सीबीआई ने भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के भाई नीशाल मोदी के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया शुरू कर दी है. अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी. नीरव मोदी दो अरब डॉलर के पीएनबी धोखाधड़ी मामले में आरोपी है. उन्होंने बताया कि सीबीआई ने नीशाल मोदी के प्रत्यर्पण का अनुरोध शुक्रवार को गृह मंत्रालय को भेजा. उन्होंने बताया कि गृह मंत्रालय विदेश मंत्रालय के जरिये बेल्जियम को यह अनुरोध भेजेगा. ऐसा माना जा रहा है कि नीशाल मोदी बेल्जियम में रह रहा है.

उन्होंने कहा कि बेल्जियाई नागरिक नीशाल मोदी पहले ही सीबीआई के अनुरोध पर इंटरपोल के रेड कॉर्नर नोटिस का सामना कर रहा है. उन्होंने बताया कि भारत की बेल्जियम के साथ प्रत्यर्पण संधि है. उन्होंने कहा कि नीशाल मोदी घोटाले में ‘सक्रिय’ रूप से शामिल था. यह आरोप है कि उसने फर्जी भागीदार बनाए और कोष के लाभार्थियों ने पंजाब नेशनल बैंक से धन का गबन कर लिया.

​34 वर्षीय नीशाल मोदी अपने भाई नीरव मोदी और मामा मेहुल चोकसी के साथ इस साल जनवरी के पहले सप्ताह में देश से भाग गया. उसके कुछ ही सप्ताह बाद मुंबई में पंजाब नेशनल बैंक की ब्रेडी हाउस शाखा में घोटाला सामने आया. उन्होंने कहा कि नीरव मोदी संभवत: ब्रिटेन में है, जबकि चोकसी ने एंटीगुआ की नागरिकता ले रखी है.

बता दें कि आज ही इंटरपोल ने नीरव मोदी की बहन और बेल्जियम की नागरिक पूर्वी मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया है. यह नोटिस अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गिरफ्तारी वारंट की तरह काम करता है. इसमें कहा गया है कि ‘धनशोधन’ के आरोपों में पूर्वी दीपक मोदी (44) की तलाश की जा रही है. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के साथ मामले की जांच कर रही केंद्रीय एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने पूर्वी मोदी पर पीएनबी घोटाले में धनशोधन के मामले में बड़ी भूमिका होने और कम से कम 13.3 करोड़ डॉलर (950 करोड़ रुपये से ज्यादा) के घोटाले का ‘लाभार्थी’ होने का आरोप लगाया है.