अब लोगों की समस्याएं बोलकर दूर करेंगे सरकारी पोर्टल, एनआईसी तैयार कर रहा है वायस बोर्ड

8

सरकार केंद्रीय योजनाओं और छात्रवृत्ति जैसे ऑनलाइन पोर्टल के इस्तेमाल के दौरान पेश आने वाली परेशानियों को वायस बोर्ड के जरिये दूर करने की तैयारी में है। इस वायस बोर्ड को पोर्टल से जोड़ा जाएगा, जो योजनाओं से जुड़ी हर परेशानी को बोलकर दूर करेगा। राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र (एनआईसी) आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआई) तकनीक के जरिये इसे जल्द शुरू करने की तैयारी में है।
एनआईसी की प्रबंध निदेशक नीता वर्मा के मुताबिक मौजूदा समय में सरकार की तमाम योजनाओं में हेल्प डेस्क चलानी पड़ती है। इसके बावजूद लोगों को पूरी सूचना नहीं मिल पाती है। ऐसे में उन्हें सरकारी कार्यालयों के चक्कर काटने पड़ते हैं। हम इसका हल निकालने की तैयारी में हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि हम वायस बोर्ड बनाने की प्रक्रिया में हैं, जो संबंधित पोर्टल में आई परेशानी का हल तत्काल निकाल देगा। वायस बोर्ड हर उस सवाल का जवाब देगा, जो पोर्टल से जुड़ा होगा। इससे लोगों को किसी हेल्प डेस्क से सहायता नहीं लेनी पड़ेगी।

वर्मा ने बताया कि इसमें आर्टिफिशियल इंजन से बात करके लोग पहले, दूसरे और तीसरे स्तर की सूचना हासिल कर सकेंगे। मान लीजिए राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल है। इसमें देशभर से करीब 1.26 करोड़ आवेदन आए, जिसके जरिये प्राथमिक, माध्यमिक और स्नातक स्तर की छात्रवृत्ति दी जाती है। यह वायस बोर्ड जानकारी देगा कि किस छात्रवृत्ति के लिए कौन सी कक्षा का छात्र योग्य है। इसमें पिछले एक साल के प्रश्न और उत्तर डाले जाएंगे। इसके बाद मशीन में नए सवाल खुद जुड़ते जाएंगे।